स्थानीय फसल प्रजातियों को जी.आई. टेग दिलाएंगे

प्रदेश की स्थानीय विशिष्ट फसल प्रजातियों के उत्पादन को प्रोत्साहित करने और भौगोलिक सांकेतिक (जीआई) टेग के साथ फसलों का चयन प्र-संस्करण मूल्य संवर्धन और विपणन व्यवस्था संबंधी रणनीति निर्धारण के लिये आज प्रशासन अकादमी में कार्यशाला हुई। भारत सरकार के 'एक जिला-एक फसल' कार्यक्रम के तहत हुई कार्यशाला में कृषि वैज्ञानिकों, विषय विशेषज्ञों, प्रगतिशील किसानों, कृषि उत्पाद उद्यमियों और विभागीय अधिकारियों के बीच मंथन हुआ। कृषि वैज्ञानिकों ने खाद्यान, दलहन, तिलहन, लघु धान्‍य फसलों की उत्पादन संभावनाएँ, चुनौतियाँ और जीआई टेग पर आधारित प्रस्तुतिकरण दिया। कार्यशाला के साथ मध्यप्रदेश 'एक जिला-एक फसल' पर कार्यशाला करने वाला पहला राज्य बन गया है।


प्रमुख सचिव किसान कल्याण तथा कृषि विकास श्री अजीत केसरी ने कहा कि विशिष्ट वस्तुओं का बाजार बहुत तेजी से बढ़ रहा है। उपभोक्ता गुणवत्तापूर्ण उत्पादों का स्वागत कर रहे हैं। इसका लाभ किसानों को मिलना चाहिए। झाबुआ जिले के कड़कनाथ प्रजाति को जीआई टेग मिलने से इसको काफी लाभ मिला है। प्रदेश के अन्य विशिष्ट कृषि उत्पादों के लिये भी जीआई टेग हासिल करने की इस कार्यशाला के माध्यम से पहल की जा रही है।


Popular posts
नवरात्र विशेष : दिन में तीन रूपों में दर्शन देती हैं रानगिर की मां हरसिद्धि
Image
18+ का वैक्सीनेशन शुरू:भाजपा शासित 5 राज्यों समेत 11 अन्य का वैक्सीनेशन से इंकार; केंद्र ने कहा- राज्यों के पास 1 करोड़ से अधिक डोज
Image
भास्कर एक्सप्लेनर:6 महीने पहले ही पहचान लिया गया था भारत में तबाही मचाने वाला वैरिएंट; फिलहाल 17 देशों में मिल चुका
Image
बंगाल में वोटिंग LIVE:35 सीटों पर 11 बजे तक 37.80% मतदान; उत्तर कोलकाता में ऑडिटोरियम के पास बम फेंकने की घटना, चुनाव आयोग ने रिपोर्ट मांगी
Image
मॉर्निंग न्यूज ब्रीफ:बंगाल में दीदी की वापसी पर खुद चुनाव हारीं, तृणमूल को जिताकर PK ने संन्यास लिया, UP में चुनाव में कोरोना गाइडलाइन की धज्जियां उड़ीं
Image