दिग्विजयसिंह पहुंचे पीसीसी, व्यवस्थाएं देख हुए संतुष्ट


भोपाल। पूरा प्रदेश कोरोना महामारी के कारण संकट के दौर से गुजर रहा है, प्रदेश में जरूरतमंदों को सरकार द्वारा आर्थिक सहायता नहीं पहुंच पा रही है, प्रदेश का गरीब तबका इस समय भुखमरी की कगार पर आ गया है। प्रदेश कांगे्रस ऐसे संकट के समय प्रदेश के जरूरतमंदों गरीबों के साथ खड़ी हैं तथा उन्हें आवश्यक खाद्य सामग्री मुहैया कराने का पूरा प्रयास कर रही है।
इसी कड़ी में बीते 26 मार्च से लगातार प्रदेश कांगे्रस कार्यालय द्वारा जरूरतमंदों को भोजन के पैकेट बनवाकर रोज भोपाल एवं अन्य आसपास के क्षेत्रों में पहुंचाए जा रहे हैं। रोज लगभग 30 हजार खाने के पैकेट तैयार कर कांगे्रसजनों द्वारा भोपाल अथवा आसपास के क्षेत्रों में पहुंचाने का कार्य किया जा रहा है। खाना बनाने वाले सभी कर्मचारियों , खाने के पैकेट ले जाने वालों एवं सभी आगंतुकों के बार-बार सेनेटाईजर से हाथ भी धुलवाये जा रहे हैं।
पूर्व मुख्यमंत्री श्री दिग्विजयसिंह आज सपत्निक प्रदेश कांगे्रस कार्यालय पहुंचे और प्रदेश कांगे्रस के कोषाध्यक्ष श्री गोविंद गोयल के नेतृत्व में सोशल स्टेंडिंग का पालन कराते हुए वहां पर बनने वाले भोजन की व्यवस्थाओं एवं साफ-सफाई को देखकर वे संतुष्ट हुए। उन्होंने कहा कि प्रदेश कांगे्रस अध्यक्ष कमलनाथ जी की भावना के अनुरूप जरूरत मंदों के लिए भोजन की व्यवस्था का कार्य बेहद सराहनीय है। कांगे्रस कार्यालय द्वारा की गई भोजन की इस व्यवस्था के चलते अन्य शहरों में भी कांगे्रस नेताओं ने जरूरतमंदों को खाना पहुंचाने का कार्य प्रारंभ किया है।


Popular posts
नवरात्र विशेष : दिन में तीन रूपों में दर्शन देती हैं रानगिर की मां हरसिद्धि
Image
5 राज्यों के चुनाव नतीजों का सबक:भाजपा को समझना होगा कि सांस्कृतिक पहचान वाले राज्यों में दिल्ली की राजनीति नहीं चलेगी; कांग्रेस को रीजनल लीडर तैयार करने की जरूरत
Image
MP में लालची अस्पतालों पर नकेल:भोपाल में 8 अस्पतालों ने मरीजों से 18 लाख रु. ज्यादा लिए थे, सब लौटाने पड़े; सरकार बोली- लोग FIR कराएं
Image
अफसरों के दबाव में दो डॉक्टरों का इस्तीफा:इंदौर की स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. गाडरिया बोलीं - कलेक्टर का व्यवहार सही नहीं; मानपुर के मेडिकल ऑफिसर ने लिखा- एसडीएम के व्यवहार से व्यथित हूं
Image
झारखंड के 32 गांवों से ग्राउंड रिपोर्ट:पांच दिन में जाना संथाली आदिवासी और कुरमी बहुल इलाकों का हाल, इनमें 20 गांवों के 3834 परिवारों में एक भी संक्रमित नहीं मिला
Image