कोरोना ने बदल दीं बिजी सितारों की आदतें, भूमि बोलीं, 'मुझे अब खुद के साथ रहना अच्छा लगता है'


'दम लगा के हईशा' में अपनी दमदार एक्टिंग के साथ बॉलीवुड में डेब्यू करने वालीं भूमि पेडनेकर की पिछले कुछ समय से साल में दो से तीन फिल्में रिलीज होती रही हैं और वह हर साल लगभग इतनी ही नई फिल्मों की शूटिंग भी करती रही हैं। लेकिन कोरोना महामारी ने सभी को अपने-अपने घरों में रहने के लिए मजबूर कर दिया है। 

 top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news top news




इस बारे में बातें करने पर भूमि कहती हैं कि उन्हें खुद के साथ रहना अच्छा लगने लगा है। वह लगातार ऐसी चीजों पर फोकस करती है जिससे उन्हें खुशी मिलती हो। भूमि कहती हैं, 'इस दौरान मैंने खुद को अच्छी तरह समझा है और मैं जान चुकी हूं कि मुझे आइसोलेशन पसंद है। मुझे खुद के साथ रहकर सुकून मिलता है। मैंने बहुत से लोगों को इस बात की शिकायत करते देखा है कि वे घर पर बोर हो चुके हैं या वे बाहर नहीं जा सकते।' 


भूमि आगे कहती हैं 'मैं एक्सट्रोवर्ट हूं और मुझे लोगों से घुलना-मिलना काफी पसंद है लेकिन इस क्वारंटाइन की वजह से मुझे यह एहसास हुआ कि दूसरे लोगों से मिलने के बजाए आइसोलेशन मुझे ज्यादा पसंद है, क्योंकि इस दौरान वाकई मैंने लोगों से मिलना-जुलना पूरी तरह बंद कर दिया है। इन दिनों मैंने पढ़ने पर ज्यादा जोर दिया है। हालांकि मैं ज्यादा समय टीवी नहीं देखती हूं लेकिन मैंने शो देखना शुरू कर दिया है। मैंने अपनी मां के साथ काफी वक़्त बिताया और सच कहूं तो कई दिन थे जब मैंने कुछ भी नहीं किया।'


खुद के साथ वक्त बिताने की जरूरत समझाते हुए भूमि कहती हैं, 'हैप्पीनेस के लिए खुद से प्यार करना बेहद जरूरी है और इस लॉकडाउन में उन्होंने खुद को प्राथमिकता दी है। मैं अपनी जिंदगी में उन चीजों की अहमियत समझती हूं जो मेरे लिए सबसे ज्यादा अहम हैं। इस दौरान मैंने खुद को फिर से पढ़ाया है। लेकिन सबसे बड़ी सीख यह मिली है कि मुझे अकेले रहना बहुत पसंद है।' 


भूमि पेडनेकर ने कहा, 'एक तरह से देखा जाए तो मैंने इस हालात का भी भरपूर आनंद लिया क्योंकि एक्टर के तौर पर फिल्म के प्रमोशन या शूटिंग के वक़्त आप हमेशा लोगों से घिरे रहते हैं। आपके आसपास का परिवेश भी कुछ लोगों की एक टीम की तरह बन जाता है। आप लगातार फोन पर बिज़ी रहते हैं, आप सोशल मीडिया पर काफी समय बिताते हैं।'


पढ़ें: बोनी कपूर ने श्रीदेवी को फिर किया याद, कहा- 'कैसे समय चला जाता है...'








Popular posts
नवरात्र विशेष : दिन में तीन रूपों में दर्शन देती हैं रानगिर की मां हरसिद्धि
Image
5 राज्यों के चुनाव नतीजों का सबक:भाजपा को समझना होगा कि सांस्कृतिक पहचान वाले राज्यों में दिल्ली की राजनीति नहीं चलेगी; कांग्रेस को रीजनल लीडर तैयार करने की जरूरत
Image
MP में लालची अस्पतालों पर नकेल:भोपाल में 8 अस्पतालों ने मरीजों से 18 लाख रु. ज्यादा लिए थे, सब लौटाने पड़े; सरकार बोली- लोग FIR कराएं
Image
अफसरों के दबाव में दो डॉक्टरों का इस्तीफा:इंदौर की स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. गाडरिया बोलीं - कलेक्टर का व्यवहार सही नहीं; मानपुर के मेडिकल ऑफिसर ने लिखा- एसडीएम के व्यवहार से व्यथित हूं
Image
झारखंड के 32 गांवों से ग्राउंड रिपोर्ट:पांच दिन में जाना संथाली आदिवासी और कुरमी बहुल इलाकों का हाल, इनमें 20 गांवों के 3834 परिवारों में एक भी संक्रमित नहीं मिला
Image